भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जितना भुलाना चाहें भुलाया न जायेगा / दरवेश भारती

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जितना भुलाना चाहें भुलाया न जायेगा
दिल से किसी की याद का साया न जायेगा

वो बेवफ़ाइयों की करें कोशिशें हज़ार
दामन वफ़ा का उनसे छुड़ाया न जायेगा

करना किसी पर तंज़ बहुत सह्ल है, मगर
देता है ज़ख़्म जो ये बताया न जायेगा

जो भी हुआ सही कि ग़लत अपने दरमियाँ
उसको किताबे-दिल से मिटाया न जायेगा

मानो भी, दे दो अपनी परेशानियाँ तमाम
बारे-गिरां ये तुमसे उठाया न जायेगा

कोई भी क़ौम के तईं हो बेवफ़ा, मगर
इल्ज़ाम तो किसी पर लगाया न जायेगा

'दरवेश' अपनी ज़ात में सिमटे मिले सभी
हरगिज़ किसी से हाथ मिलाया न जायेगा