भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जितने सितम किए थे किसी ने अताब में / सीमाब अकबराबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज



जितने सितम किये थे किसी ने अताब में।
वो भी मिला लिए करमे-बेहिसाब में॥

हर चीज़ पर बहार, हर इक शय पै हुस्न था।
दुनिया जवान थी मेरे अहदे-शबाब में॥