भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

जिनकी वज़ह से आप उदास हैं / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जिनकी वज़ह से आप उदास है।
गिनती में वे कुल सौ पचास हैं!

देखो, अब कौन कहां बिक सकता,
उनकी बज्म लग रहे क़यास हैं।

खुश हो जिस पर कर दिये दस्तखत,
यह आपके सपनों की लाश है!

आ जाते हैं वे फिर ललचाने,
होती जब मंजिल बहुत पास है।

चिनगारी से जल जाता जंगल,
आप अंगारे होकर उदास हैं?