भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिन्दगाणी सूखै ताळ जिंयां / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जिन्दगाणी सूखै ताळ जिंयां
का उळझ्योड़ै सवाल जिंयां

धांसै अर थूकै खून लोग
हुवै सांस और हलाल किंयां

धोरां बिच्चै पड़्या सूखां
मर्‌यै डांगर री खाल जिंयां

अदीठ हाथां सूं रोस गळो
पूछण आया थे हाल किंयां

तीसूं दिनां री लड़ाई में
आ एक तारीख ढाल जिंयां