भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिन्दगी की खनक / स्वाति मेलकानी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मौत की
हजार चीखों से
ज्यादा आवाज होती है
जिन्दगी की खनक में
जैसे दूर तक फैले
रेगिस्तान की
तमाम मनहूसियत को
शर्मसार कर देती है
समय की तेजी से बहती
एक नदी...
अलग अलग कमरों
और उनमें रहते
तमाम चेहरों को समेटकर
घर की शक्ल देती है
एक औरत...
सर्दियों भर की ठिठुरन
और पतझड़ की मायूसी को
पल में खारिज करती है
बसन्त की
पहली कली...
करोड़ांे तारों में छिपते
बहरूपिये चाँद को
ढूँढकर ले आती है
पूनम की एक रात...
ऐसे
बिल्कुल ऐसे ही
बासी दिमागों
और नकली कोशिशों के बीच
लगातार मर रहे
जीने के आसारों को
जिला देती है
एक असली जिन्दगी
अपनी ताजा साँसों की
भरपूर हवाओं से छू कर।