भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

जिन्हें मैं ढूँढता था आसमानों में ज़मीनों में / इक़बाल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज



जिन्हें मैं ढूँढता था आस्मानों में ज़मीनों में
वो निकले मेरे ज़ुल्मतख़ाना-ए-दिल[1] के मकीनों[2]में

अगर कुछ आशना[3] होता मज़ाक़े- जिबहसाई [4] से
तो संगे-आस्ताने-काबा[5] जा मिलता जबीनों[6] से

कभी अपना भी नज़्ज़ारा किया है[7] तूने ऐ मजनूँ !
कि लैला की तरह तू भी तो है महमिलनशीनों[8] में

महीने वस्ल के घड़ियों की सूरत उड़ते जाते हैं
मगर घड़ियाँ जुदाई की गुज़रती है महीनों में

मुझे रोकेगा तू ऐ नाख़ुदा[9]क्या ग़र्क़[10] होने से
कि जिन को डूबना है डूब जाते हैं सफ़ीनों[11] में

जला सकती है शम्म -ए-कुश्ता[12] को मौज-ए-नफ़स [13] उन की
इलाही क्या छुपा होता है अहल-ए-दिल[14] के सीनों में

तमन्ना दर्द-ए-दिल की हो तो कर ख़िदमत[15] फ़क़ीरों की
नहीं मिलता ये गौहर[16] बादशाहों के ख़ज़ीनों[17] में

न पूछ इन ख़िर्क़ापोशों[18] की इरादत[19] हो तो देख उनको
यदे-बैज़ा[20] लिए बैठे हैं ज़ालिम आस्तीनों में

नुमायाँ[21] हो के दिखला दे कभी इनको जमाल[22] अपना
बहुत मुद्दत से चर्चे हैं तेरे बारीक बीनों[23] के

महब्बत के लिये दिल ढूँढ कोई टूटने वाला
ये वो मै है जिसे रखते हैं नाज़ुक आबगीनों[24] में

ख़मोश ऐ दिल भरी महफिल में चिल्लाना नहीं अच्छा
अदब पहला क़रीना है महब्बत के क़रीनों में

किसी ऐसे शरर[25] से फूँक अपने ख़िरमने-दिल[26] को
कि ख़ुर्शीदे-क़यामत[27] भी हो तेरे ख़ोश्हचीनों[28] में

बुरा समझूँ उन्हें मुझ से तो ऐसा हो नहीं सकता
कि मैं ख़ुद भी तो हूँ "इक़बाल" अपने नुक्ताचीनों[29] में

शब्दार्थ
  1. दिल के अँधेरे घर
  2. मकान में रहने वाले
  3. परिचित
  4. माथा टेकने का आनन्द
  5. काबा की दहलीज़ का पत्थर जिसपर हर यात्री माथा टेकता है
  6. माथों
  7. कभी ख़ुद को भी देखा है
  8. ऊँट की पीठ पर पर्देदार हौदे में बैठने वाली
  9. मल्लाह,नाविक
  10. डूबने
  11. जहाज़ों
  12. बुझी हुई शम्मा को
  13. उच्छ्वास
  14. दिल वालों
  15. सेवा
  16. मोती
  17. कोशों
  18. चीथड़े पहने हुए लोगों
  19. विश्वास
  20. चमत्कारी हाथ
  21. प्रकट
  22. शान
  23. बुद्धिमानों
  24. पानी के बुलबुलों
  25. चिंगारी
  26. दिल की कुटिया
  27. क़यामत का सूर्य
  28. प्रशंसकों
  29. आलोचकों