भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिसको लज़्ज़त है सुख़न के दीद की / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जिसको लज़्ज़त है सुख़न के दीद की
उसको ख़ुशवक़्ती है रोज़-ए-ईद की

दिल मिरा मोती हो, तुझ बाली में जा
कान में कहता है बाताँ भेद की

ज़ुल्‍फ़ नईं तुझ मुख पे ऐ दरिया-ए-हुस्‍न
मौज है ये चश्‍म-ए-ख़ुर्शीद की

उसके ख़त-ओ-ख़ाल सूँ पूछो ख़बर
बूझता हिंदू है बाताँ बेद की

तुझ दहन कूँ देख कर बोला 'वली'
ये कली है गुलशन-ए-उम्‍मीद की