भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जिसने मुँह मे ज़बान रक्खी है / चाँद शुक्ला हादियाबादी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


जिसने मुँह में ज़बान रक्खी है
उसने अपनी ही ठान रक्खी है

यह तो जाएगी जाते-जाते ही
क्यों हथेली पे जान रक्खी है

साथ जिसने दिया है हर पल-छिन
उसने ही आन-बान रक्खी है

रोज़ मरतें हैं रोज़ जीते हैं
रौनके दो जहान रक्खी है

ऐ फ़लक तू खुला है ख़ाली है
चाँद तारों ने शान रक्खी है