भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

जीत उच्छब / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

रात : जुल्मां री राजधानी
अंधारो : गुण्डो

एकलो सूरज
जूझै
जीतै

मनावै जीत-उच्छब
अगूण किलै ऊभ
उडावै सिंदूरी गुलाल !