भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

जीत री छोड हारो तो सरी / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जीत री छोड हारो तो सरी
आ मौज नुंवी मारो तो सरी

जग सूं कांई थे आवो परा
म्हांरा ऐढा सारो तो सरी

जाणै जिका ई जाणै मिठास
आंसू होवै खारो तो सरी

रात-रात कठै रैवै सूरज
लेवो इण रो लारो तो सरी

ऊंची डाळां पण फूल थांरो
एकर मन में धारो तो सरी