भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

जीने का मजा किरकिरा है / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जीने का मजा किरकिरा है।
आदमी सांपों से घिरा है।

जाने से पहले सोच ज़रा,
अंधे कुएं का कहां सिरा है?

बस, एक क़दम दूर है मौत,
जब से कफ़ में खून गिरा है।

सोचा- जलाऊं गंदी बस्ती,
दुनिया ने कहा- सिरफिरा है।

वज़ह की वज़ह तलाशें आज,
जिस वज़ह हर कोई गिरा है।