भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जीवण-जुध / मोहन सोनी ‘चक्र’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हथेळी रै बिचाळै
रगड़ आंगळी सूं
दे फटकारो
चाब नैं बीड़ो
दूजी हथेळी सूं
जद झाड़ देवै सगळी
चिंता-फिकर
उठा लेवै तगारी,
इयां लागै
जाणै बांध’र कफण
हुयग्यो है त्यार
रणबांकुरो लड़णै सारू
एक जुध।