भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जीवण : धुखतो छाणो / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

नित लावणो
नित खावणो
टींगरां रै मूत सूं
    गिंधावतो बिछावणो
छीजतै जोबन रो
गरमास लेवण मिस
सो जावणो
थाकैलो उतारणो
भळै पछतावणो
आयै बरस
आंगणै में नुंवो पावणो
कदैई रोवणो
कदैई गावणो
चांचड़ देवणियो ई
चुग्गो देसी
आ सोच मन बिलमावणो

म्हारी इण
सांतरै तुकां आळी
आडी रो अरथ पिछाणो
ऐड़ो जीवण
…………..?