भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

जीवतै जागतां री कबर है / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जीवतै जागतां री कबर है
म्हैं किंयां कैवूं-हां, औ घर है

म्हारो दूध पी म्हनै ई डसै
ऐ कद गुण मानै, ऐ विषधर है

अळधै सूं देख रस्तो बदळै
जमाने री हवा रो असर है

मत जा टाबरिया सड़क माथै
पग-पग धुंवो धुंवै में डर है

मिलां मुळकां पण मन में खरास
म्हारी मान कीं न कीं कसर है