भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जीवन का सच / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गगनचुंबी इमारत थी जो
खड़ी है वही खण्डहर बन

अब न हंसी-ठहाके
न बातों का शोर
न फुसफुसाहटें
भांय-भांय करता है सिर्फ सन्नाटा

लकदक हरियल गाछ था जो
खड़ा है वही ठूंठ बना
अब न झूलने-खेलने आते हैं बच्चे
न चहचहाते हैं पंछी
न विश्राम लेते पंथी
अकेलेपन की ऊब है चौतरफ

संध्यावेला में
अकेला नहीं गया हूं मैं
साथ है मेर्रे जीवन का सच
यह खण्डहर
यह ठूंठ
यह भांय-भांय करता सन्नाटा
और यह अकेलेपन की ऊब !