भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जीवन ज़ारी रहना चाहिए / जून जॉर्डन / अनिल जनविजय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

स्तनों की उस आंशिक बीमारी का इलाज करने में
लम्बा समय लगा
और स्तन की जगह मेरी छाती पर छूट गया
चीथड़े जैसा एक बड़ा निशान

स्तन की छोटी-सी बीमारी का इलाज करने में
बहुत लम्बा समय लगा
पर तब तक दिमागी तौर पर मैं
एक गहरे गड्ढे में उतर चुकी थी

और शरीर पर छूट गया था
चीथड़े जैसा वह बड़ा निशान
स्तन कैंसर की शुरूआत इसी बीमारी से हुई थी

और जब बीमारी बढ़ी
तो उसने पहले से बने खूँटी-से बड़े उस दाग को
बाँट दिया
दो टुकड़ों में

कैंसर के घाव का असर
दिमाग पर पचास गुना ज़्यादा भयानक होता है
बीमारी के इलाज द्वारा छोड़े गए
दिमागी असर से

दो-दो बार एक ही जगह पर किए गए ऑपरेशन
इतने नुक़सानदेह रहे
कि उनके बाद छूट गया
एक और भी बड़ा ख़ूनी निशान
 
और इस तरह
मैं जी रही हूँ

मूल अँग्रेज़ी से अनुवाद : अनिल जनविजय