भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जीवन सुन्दर है / लैंग्स्टन ह्यूज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: लैंग्स्टन ह्यूज़  » संग्रह: आँखें दुनिया की तरफ़ देखती हैं
»  जीवन सुन्दर है

मैं नदी के पास गया
उसके किनारे बैठ गया
मैंने कुछ सोचने की कोशिश की
पर सोच नहीं पाया
इसलिए मैं नदी में कूद गया
और डूब गया

मैं एक बार ऊपर आया और फिर चिल्लाया
अगर नदी का पानी ठंडा होता तो
मैं डूबना पसन्द करता और मर जाता
पर पानी इतना ठंडा था कि पूछो मत

मैंने लिफ़्ट ली
और ज़मीन से सोलह मंज़िल ऊपर आ गया
मैंने अपनी बच्ची के बारे में सोचा
और वहाँ से कूद जाने के बारे में

मैं वहाँ खड़ा होकर चिल्लाया
मैं वहाँ खड़ा होकर चिल्लाता रहा
अगर इतनी ऊँचाई नहीं होती
तो मैं कूद जाता और मर जाता

इसलिए उसके बाद भी
अब तक मैं जी रहा हूँ
और उम्मीद है कि जीता रहूँगा
मैं प्यार की ख़ातिर मर सकता था
पर पैदा ही हुआ था जीने के लिए

हालाँकि तुम मुझे चिल्लाते सुन सकती हो
और रोते देख सकती हो
पर मैं बड़ा हठी हूँ मेरी प्यारी बच्ची
अगर तुम मुझे मरा देखना चाहती हो
जीवन सुन्दर है
शराब की की तरह सुन्दर
जीवन सुन्दर है


मूल अंग्रेज़ी से अनुवाद : राम कृष्ण पाण्डेय