भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जीवन / अनिरुद्ध प्रसाद विमल

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कोई कहता-
जीवन है फूलों की तरह
खिलता है, मुरझाता है
झड़ जाता है।
कोई कहता है-
जीवन है बच्चों की तरह
गिरता है, उठ जाता है
रोता है, फिर हँसता है।
कोई कहता है-
जीवन है मेघों की तरह
झरता है, सुख पाता है।
कोई कहता है-
जीवन है सूरज की तरह
प्रीत में जलता है, अपनी सजनी से मिलने को
विरह् पंथ पर चलता है, तपता है।
कोई कहता -
जीवन तो है सरिता की तरह
मस्ती में गाता है,
संगीत उड़ाता है
फिर सागर में मिलकर, वह मृत्यु को सुखद बनाता है।
पर मेरी नजरों में
यह जीवन तो, केवल समझौता है
बस समझौता है।
एक पल चूके तो जीवन बस एक सरोता है।