भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जी पर भी हम ने जब्र किया इख़्तियार तक / मेला राम 'वफ़ा'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जी पर भी हम ने जब्र किया इख़्तियार तक
जीते रहे अख़ीर दम-ए-इंतिज़ार तक

किस को नसीब होते हैं फिर जल्सा-हा-ए-मय
जीता है कौन देखिए अगली बहार तक

उफ़-रे सितम कि बहर-ए-दुआ-ए-विसाल-ए-ग़ैर
वो पाँव चल के आए हैं मेरे मज़ार तक

तुम भी करोगे जब्र शब ओ रोज़ इस क़दर
हम भी करेंगे सब्र मगर इख़्तियार तक

शाकी नहीं मैं नख़वत-ए-गुल ही का ऐ 'वफ़ा'
मुझ से चमन में नोक की लेते हैं ख़ार तक।