भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जुग-संदर्भ / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अबै आदमी हुवणो पाप है
आदमी हुवण सूं चोखो
कै आदमी कुत्तो बण जावै
तीन गुणां आळो कुत्तो
जिको-
भुस्सै
या काट खावै
या पछै
पूंछड़ी हिलावै !