भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जुनूँ-नवाज़ सफ़र का ख़याल क्यूँ आया / अज़ीज़ अहमद खाँ शफ़क़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जुनूँ-नवाज़ सफ़र का ख़याल क्यूँ आया
किसी की राहगुज़र का ख़याल क्यूँ आया

न जाने कौन अपाहिज बना रहा है हमें
सफ़र में तर्क-ए-सफ़र का ख़याल क्यूँ आया

जुनूँ को तेरी ज़रूरत का क्यूँ हुआ एहसास
सफ़र-गुज़र को घर का ख़याल क्यूँ आया

बहुत दिनों से इधर उस को याद भी न किया
बहुत दिनों ये उधर का ख़याल क्यूँ आया

यहाँ तो और भी रहते हैं अहल-ए-दर्द ‘शफ़क’
तुम्हें पड़ोस के घर का ख़याल क्यूँ आया