भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जूते का नाप / बालकृष्ण गर्ग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हाथी दादा ओढ़ लबादा
पहुँच गए बाजार,
जूतों की दूकान देखकर
माँगे जूते चार।
भालू जूते वाला बोला-
‘बड़ा आपका नाप,
इतने बड़ी न बनते जूते,
दादा, कर दो माफ!’
[नन्दन, अक्तूबर 1973]