भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जेब / रतन सिंह ढिल्लों

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घड़ी के आदेश पर
सोफ़े पर
सरसराहट हुई
और मेज़
धीरे-धीरे सरकने लगी ।

उसके
बायें हाथ की
दूसरी अंगुली के पास
छल्ला घूम रही थी ।

मैंने उसकी नग्न आँखों में
अपनी
बदलती तस्वीर देखी ।
 
मूल पंजाबी से अनुवाद : अर्जुन निराला