भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जेल से छूटने के बाद / नाज़िम हिक़मत / उज्ज्वल भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जाग गया मैं
कहाँ हो तुम ?
अपने घर में ।

अब भी आदी न बना –
सोते हुए या जगकर –
अपने घर में होने का ।

यह भी एक जड़ता है
तेरह साल जेल में रहने की ।
बगल में कौन है ?

अकेलापन नहीं, बल्कि तुम्हारी बीवी,
फ़रिश्ते की तरह नींद में डूबी ।
गर्भवती हो तो औरत प्यारी लगती है ।

समय क्या हो रहा है ?
आठ बजे हैं ।
यानी शाम तक तुम्हें कोई ख़तरा नहीं ।

क्योंकि पुलिस की रवायत है
दिन की रोशनी में छापा न मारने की ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : उज्ज्वल भट्टाचार्य