भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जैसाकि मैं कह रहा था / निकानोर पार्रा / उज्ज्वल भट्टाचार्य

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हर बात में नम्बर वन !
 
न कभी हुआ है, न कभी होगा
कोई मेरी जैसी मर्दानी ताक़त वाला ।
एक बार एक बेबी सिटर मिली
और लगातार सत्रह बार वह झर गई ।

मैंने गाब्रिएला मिस्त्राल को खोज निकाला
मुझसे पहले किसी को पता न था
कि कविता क्या है ।
मैं एथलीट हूँ : पलक झपकते ही
मैं सौ मीटर दौड़ लेता हूँ ।

यह तो पता ही होगा
कि चिली में बोलने वाली तस्वीरें मैं लाया ।
एक मायने में तुम कह सकते हो
मैं इस देश का पहला बिशप हूँ ।
पहली बार हैट बनानेवाला,
पहला शख़्स जिसने देखी,
अन्तरिक्ष यात्रा की सम्भावना ।

चे ग्वेवेरा से मैंने कहा — “बोलिविया, नहीं-नहीं”
तफ़सील से उसे मैंने सारी बातें समझाई,
मैंने चेतावनी भी दी कि उसकी जान ख़तरे में होगी ।

अगर उसने मेरी बात मानी होती
तो जो उसके साथ हुआ वो न होता,
याद है बोलिविया में उस पर क्या गुज़रा था ?
 
कॉलेज में सब मुझे मूरख कहते थे,
लेकिन मैं क्लास का फ़र्स्ट बॉय था ।
बस, ऐसा ही था जैसा तुम मुझे देख रहे हो
जवान – ख़ूबसूरत – होशियार
मैं तो कहूँगा — जीनियस
 
अप्रतिरोध्य
एक गधे से बड़ा बाबूलाल
किशोरियों को दूर से ही पता चल जाता था
हालाँकि मैं छिपाने की पुरज़ोर कोशिश करता था ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : उज्ज्वल भट्टाचार्य