भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जैसे-जैसे / येव्गेनी येव्तुशेंको

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जैसे-जैसे दिन बीतेंगे, सम्भव है
मैं अकेला होता जाऊंगा

जैसे-जैसे वर्ष गुज़रेंगे, सम्भव है
मैं शेष नहीं हूँ, समझ जाऊंगा

जैसे-जैसे बदलेंगी शताब्दियाँ, सम्भव है
मैं लोगों की स्मृति से गुम हो जाऊंगा

पर हो न ऎसा कि दिन बीतें जैसे-जैसे
मेरे जीवन में शर्म बढ़े वैसे-वैसे

पर हो न ऎसा कि वर्ष गुजरें जैसे-जैसे
ताश का गुलाम बन जाएँ हम वैसे-वैसे

पर हो न ऎसा कि शताब्दियाँ बदलें जैसे-जैसे
हमारी कब्रों पर थूकें लोग वैसे-वैसे