भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जोगवा बेसाहन चलल मोर भइया रे टोनमा / मगही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मगही लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

जोगवा[1] बेसाहन[2] चलल मोर भइया रे टोनमा।
भइया चलले सँगे साथ रे टोनमा॥1॥
घुरि फिरि[3] देखथिन बेटी दुलरइतिन बेटी रे टोनमा।
अँखियन से ढरे लोर[4] रे टोनमा॥2॥
आगे आगे अवथिन[5] भइया दुलरुआ भइया रे टोनमा।
पाछे पाछे भउजी[6] चली आवे रे टोनमा॥3॥
भउजी के हाथ में सोने के सिंघोरबा[7] रे टोनमा।
भइया हाथे तरवार रे टोनमा॥4॥

शब्दार्थ
  1. योग, टोन-टोटका
  2. खरीदने के लिए
  3. मुँह पीछे घुमाकर
  4. अश्रु
  5. आते हैं
  6. भाभी
  7. सिन्दूरदान, सिन्धोरा