भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जोगिया टेसू (हाइकु) / सुधा गुप्ता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

( पूस की हवा)
खेतों में दौड़ती
पगली कटखन्नी
पूस की हवा

( जोगिया टेसू )
जोगिया टेसू
धारे युवा वैष्णवी
वन में खड़ी

(बर्फ़ के फाहे)
बर्फ़ के फाहे
आहिस्ता गिर रहे
धुनी रुई से
  
(कैद चाँद)
मेघ मुट्ठी में
कैद चाँद फिसला
निकल भागा

(पाखी के स्वर )
बज उठते
सन्नाटे के घुँघरू
पाखी के स्वर