भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जो कुई हर रंग में अपने कूँ / वली दक्कनी

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो कुई हर रंग में अपने कूँ शामिल कर नहीं गिनते
हमन सब आक़िलाँ में उस कूँ आक़िल कर नहीं गिनते

मुदर्रिस मदरिसे में गर न बोले दर्स दर्शन का
तो उसकूँ आशिक़ाँ उस्‍ताद-ए-कामिल कर नहीं गिनते

ख़याल-ए-ख़ाम को जो कुई कि धोवे सफ़्ह-ए-दिल सूँ
तसव्‍वुफ़ के मतालिब कूँ वो मुश्किल कर नहीं गिनते

जो बिस्मिल नईं हुआ तेरी नयन की तेग़ सूँ बिस्मिल
शहीदाँ जग के उस बिस्मिल को बिस्मिल कर नहीं गिनते

पिरत के पंथ में जो कुई सफ़र करते हैं रात-ओ- दिन
वो दुनिया कूँ बग़ैर अज़ चाह-ए-बावल कर नहीं गिनते

नहीं जिस दिल में पी की याद की गर्मी की बेताबी
तो वैसे दिल कूँ सादे दिलबराँ दिल कर नहीं गिनते

रहे महरूम तेरी ज़ुल्फ़ के मुहरे सूँ वो दाइम
जो कुई तेरी नयन कूँ ज़हर-ए-क़ातिल कर नहीं गिनते

न पावे वो दुनिया में लज़्ज़त-ए-दीवानगी हरगि़ज
जो तुझ ज़ुल्‍फ़ाँ के हल्‍क़े कूँ सलासिल कर नहीं गिनते

बग़ैर अज़ मारिफ़त सब बात में गर कुई अछे कामिल
'वली' सब अहल-इरफ़ाँ उसकूँ कामिल कर नहीं गिनते