भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जो कुछ भी तुम्हें चाहिए / डोरिस कारेवा / तेजी ग्रोवर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो कुछ भी तुम्हें चाहिए
वह आवरण में
चला आएगा तुम्हारे पास,
एक या फिर
दूसरे भेस में ।

जब तुम पहचान लोगे उसे,
वह
तुम्हारा हो जाएगा ।

जो कुछ भी तुम्हें चाहिए
वह चला आएगा तुम्हारे पास,
तुम्हें पहचान लेगा,
तुम्हारा अंश बन जाएगा ।

सांस लो,
दस तक गिनो.
क़ीमत
बाद में बताई जाएगी ।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : तेजी ग्रोवर