भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जो तू शराब पिए क्यूँकि दिल कबाब न हो / इनामुल्लाह ख़ाँ यक़ीन

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो तू शराब पिए क्यूँकि दिल कबाब न हो
लगे जब आग कहाँ तक ये ज़हरा आब न हो

ख़ुनुक गुज़रते हैं अय्याम-ए-इश्क़ दाग़ बग़ैर
कि सर्द होवे हवा जिस दिन आफ़ताब न हो

दिवाने शहर से याँ आ के चैन पाते हैं
ख़ुदा करे ये ख़राबा कभी ख़राब न हो