भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जो बहुत तरसा-तरसा कर / अज्ञेय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो बहुत तरसा-तरसा कर
मेघ से बरसा
हमें हरसाता हुआ,
        -माटी में रीत गया ।

आह! जो हमें सरसाता है
वह छिपा हुआ पानी है हमारा
इस जानी-पहचानी
माटी के नीचे का ।
         -रीतता नहीं
          बीतता नहीं ।