भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जो भी यकजा है बिखरता नज़र आता है मुझे / अबरार अहमद

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो भी यकजा है बिखरता नज़र आता है मुझे
जाने यूँ है भी कि ऐसा नज़र आता है मुझे

चश्म-ए-वा में तो वही मँज़र-ए-ख़ाली है जो था
मूँद लूँ आँख तो क्या क्या नज़र आता है मुझे

माइल-ए-अर्ज़-ए-तमन्ना है न है वक़्फ़-ए-मलाल
ऐ मिरे दिल तू ठहरता नज़र आता है मुझे

पस-ए-नज़्ज़ारा कोई ख़्वाबأ-ए-गुरेज़ाँ ही न हो
देखने में तो तमाशा नज़र आता है मुझे

बाँध लूँ रख़्त-ए-सफ़र लौट चलूँ घर की तरफ़
तिरी जानिब से इशारा नज़र आता है मुझे

तुझे क्यूँकर हो ये मालूम मिरे माह-ए-तमाम
दाग़-ए-दिल कैसे सितारा नज़र आता है मुझे

कश्ती-ए-जाँ यही इक-आध भँवर और है बस
कहीं नज़दीक किनारा नज़र आता है मुझे

देखने-देखने में फ़र्क़ हुआ करता है
तुम्ही बतलाओ कि कैसा नज़र आता है मुझे