भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

जो सौ-सौ ग़म उठाना चाहता है / दरवेश भारती

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जो सौ-सौ ग़म उठाना चाहता है
वो अश्कों का खज़ाना चाहता है

असीरे-खौफ़ो-दहशत है जो खुद ही
वही सबको डराना चाहता है

सवालों से घिरे रहते हो अक्सर
कहाँ तुमको ज़माना चाहता है

बनाकर ज़ह्र-आलूदा हवाएँ
वो इक मौसम सुहाना चाहता है

तेरे गिर्द उड़नेवाला इक परिन्दा
तेरे दिल में ठिकाना चाहता है

उलझ जाये न खुद वो मुश्किलों में
जो सबको आज़माना चाहता है
 
जवानी में बुने ख्वाबों की ता'बीर
ऐ 'दरवेश' अब तू पाना चाहता है