भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

ज्यूं-ज्यूं नैड़ो घर आवै / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ज्यूं-ज्यूं नैड़ो घर आवै
म्हारो हिवड़ो भर आवै

ओळूं बादळ बण बरसै
गजबण थारी हर आवै

मन हो जावै बेकाबू
आ रुत कामण कर जावै

प्रीत बावळा पतंगिया
झळ सूं कीकर डर जावै

जग सूं कांई, थे आवो
म्हारो ऐढो सर जावै