भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज्यूक बॉक्स पर प्रेम गीत / बालकृष्ण काबरा 'एतेश' / लैंग्स्टन ह्यूज़

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हारलेम की रात लेकर
लपेटूँगा मैं इसे
तुम्हारे चारों ओर,

लेकर नियॉन लाइटों को
बनाऊँगा एक ताज,
लूँगा लेनॉक्स एवेन्यू की बसों, टैक्सियों
और सुरंग-रेलों को,
और करूँ‏गा उनके स्वरों को धीमा
तुम्हारे प्रेम-गीत के लिए।

लूँगा हारलेम के
हृदय की धड़कनों को,
बनाऊँगा ड्रमबीट,
बजने दूँगा इसे रिकार्ड-प्लेयर पर,

और सुनते हुए इसे
नाचूँगा तुम्हारे साथ दिनभर —
नाचूँगा तुम्हारे साथ,
ओ, हारलेम की मेरी प्रिय गोरी बालिका।

अँग्रेज़ी से अनुवाद : बालकृष्ण काबरा ’एतेश’