भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ज्वार / रित्सुको कवाबाता

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: रित्सुको कवाबाता  » ज्वार

ज्वार पुरे जोर पर है अब ,
विचार उफनते हैं ,
गहनता से मस्तिष्क में .
बन जाते हैं लहर प्रचंड .
शब्द उमड़ते हैं
ज्वार पूरे जोर पर है अब
यही समय है सही !

अनुवादक: मंजुला सक्सेना