भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

झाँखी जे देखलौं ब्राह्मण अजीब किसिम के / मैथिली लोकगीत

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैथिली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

झाँखी जे देखलौं ब्राह्मण अजीब किसिम के
यो अहाँ ब्राह्मण बाबू
छोटी-मोटी लोक सब देखलौं ठाढ़
यो अहाँ ब्राह्मण बाबू
छोट गहबरिया ब्राह्मण ऊँच त्रिशूलिया
यो अहाँ ब्राह्मण बाबू
दस पाँच गोहरिया देखलौं ठाढ़
यो अहाँ ब्राह्मण बाबू
कोढ़िआ के काया दिऔ, अन्हरा के नयन
यो अहाँ ब्राह्मण बाबू
बाँझिन के दिऔ एक पुत्र, यो अहाँ ब्राह्मण बाबू