भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

झुर्रियाँ-1 / गून ल्यू

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मुखपृष्ठ  » रचनाकारों की सूची  » रचनाकार: गून ल्यू  » झुर्रियाँ-1

ये चेहरे पर कैसी
मकड़ी आ बैठी
ख़ूबसूरती सारी
जाले में लपेटी

ओ मकड़ी! मकड़ी!
यह कौन सी भाषा है?
ओ मकड़ी! मकड़ी!
क्या नाम तेरा आशा है?

रूसी भाषा से रूपांतरण : जनविजय