भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

झोंटा / तादेयुश रोज़ेविच

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

जब सारी स्त्रियों की
जो गाड़ी से लाई गई थी
तो चार मज़दूरों ने भूर्ज की टहनियों से बने झाड़ू से
बुहारा और
बाल इकठ्ठा किए
साफ़ काँच के नीचे
रखे हैं उनके सख़्त बाल जिनका दम घुटा
गैस-चैम्बरों में
जिन बालों में फँसी हुई हैं पिनें
और हड्डियों से बनी कंघियाँ
और रौशनी उनके पार नहीं जाती
हवा उन्हें अलगा नहीं पाती
हाथ उन्हें नहीं छूते
न बारिश, न होंठ
बड़े-बड़े सन्दूकों में
घुमड़ते हैं सूखे बाल
दम-घुटों के
और एक बदरंग झोंटा
फीते से बन्धी एक झुँटिया
जिसे स्कूल में खींचते थे
शरारती लड़के