भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

टँगे हुए चेहरे / सूरज राय

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

दिल पे दुनिया के रंजो-गम ठहरे ।
एक क़ैदी पे सैकड़ों पहरे ।।

ज़िंदगी फिर रही है बेवा-सी
सिर्फ़ मरघट पे बिक रहे सेहरे ।।

दर्द तो बेसतह समंदर है
बीच से ज़्यादा किनारे गहरे ।।

हद-ए-बर्दाश्त-ए-ग़म क्या है तेरी
ए दिल-ए-बेजुबान कुछ कह रे ।।

जब जहाँ जिसकी ज़रूरत पहनो
खूँटियों पर टँगे हुए चेहरे ।।

चीख़ती हैं अमावसें दिल की
चाँद-‘सूरज’-चिराग सब बहरे ।