भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
  काव्य मोती
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

टाबर ई कथैला / सांवर दइया

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

साटणियै धागां सूं ई
कंवळो है
रूपाळो है
सोवणो है
कारीगरां रो कूड़

आत्मा दांई
अजर है
अमर है
अदीठ है
हाजरियां री हां

छ्ळ छंद रो कारोबार
रुकै कोनी
चाल्या आवै इंयाई जुगा सूं
लगोलग

मतलब री चासणी में
कंठां तांईं डूब्योड़ी माख्यां रै मूण्डै सूं
कद सांमै आवै साच ?
साच री भींत सूं
भचीड़ खायां बिना खुलै कोनी
शौक में आंधै हुयोड़ै
राजा री आंख्यां
जे कदैई
साच कथैला तो
टाबर ई कथैला
कै राजा साव नागो है !