भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार
Roman

टूट-फुट / निशान्त

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

काम चाहे
कितना ही पक्का
पुख्ता हो
बिगाड़ आ ही
जाता है उसमें
निभाता नहीं वह
उम्र भर साथ
मसलन
घिस जाते हैं
मैन गेट के
‘गेटवाल’
गल जाती है
बिजली की तारें
उखड़ जाता है
पलस्तर
यहां तक कि
अच्छे खासे
रिश्तों में भी
आ जाती है
दरार
कुछ भी नहीं होता
ऐसा
जो हमें कर दे
पूर्ण निश्चिंत