भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

टूट गई स्क्रीन / बालकृष्ण गर्ग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

भालू ने खोला जंगल में-
‘टी॰वी॰ ट्रेनिंग सेंटर’,
कल-पुरजे सब लगे बताने-
मोटा डंडा लेकर।
ट्रेनिंग देने में वे ऐसे
हुए आज तल्लीन,
डंडा शीशे से टकराया,
टूट गई स्क्रीन।
[चम्पक, दिसंबर (प्रथम) 1996]