भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

टूर / बालकृष्ण गर्ग

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अफसर बंदर गरमी से जब
बहुत हुए बेहाल,
‘टूट’ करेंगे, इसी बहाने
पहुँच नैनीताल।
किन्तु वहाँ काले मुँह वाले
देखे जब लंगूर,
उल्टे पैरों भागे वापस,
भूल गए सब ‘टूर’।
[धर्मयुग, 11 मई 1975]