भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

टेस्ट / निकानोर पार्रा / श्रीकान्त दुबे

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

‘प्रति-कवि’ कौन होता है ?
कफ़न और भस्म-कलश बेचने वाला कोई व्यवसायी ?
कोई पादरी जिसे किसी पर भी यक़ीन न हो ?
कोई सैन्य-जनरल जिसे ख़ुद को लेकर ही सन्देह हो ?
कोई आवारा जो हर चीज़ को हँसी में उड़ा देता है
यहाँ तक कि बुढ़ापे और मृत्यु को भी ?
कोई बुरे आचरण वाला सम्वादी ?
गहरी खाई के छोर पर नाचता कोई नर्तक ?
कोई सनकी जिसे समूचे विश्व से प्यार हो ?
जानबूझकर दयनीय बना हुआ
कोई रक्तरंजित जोकर ?
कुर्सी पर आराम फरमा रहा कोई कवि ?
आधुनिक समय का कोई कीमियागर ?
कोई आरामतलब क्रान्तिकारी ?
कोई छोटा-मोटा सामन्त ?
कोई फरेबी ?
  अथवा कोई देवता ?
       या एक मासूम ?
चिली का कोई ग्रामीण ?
उपरोक्‍त में से सही वाक्य को रेखांकित करें ।

प्रति-कविता क्या है ?
चाय की प्याली में समा सकने वाला कोई अन्धड़ ?
चट्टान पर चिपका कोई बर्फ़ का चकत्ता ?
मनुष्य के मैले से भरा कोई ट्रे
जैसा कि फ़ादर सेल्वातिएर्रा का विश्‍वास है ?
सच बोलने वाला कोई आईना ?
लेखकों की मण्डली के अध्यक्ष के मुँह पर
एक तमाचा ?
(ईश्वर उसकी आत्मा को अपनी शरण में ले)
युवा कवियों को दी जाने वाली कोई चेतावनी ?
बहिर्गामी कफ़न ?
केन्द्राभिसारी कफ़न?
पैराफ़िन की गैस का कफ़न ?
बिना लाश के जल रहा कोई मुर्दाघर ?

उपरोक्त में से सही परिभाषा को
एक क्रॉस से चिह्नित करें ।

मूल स्पानी भाषा से अनुवाद : श्रीकान्त दुबे