भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ठहरै वास्तेॅ की घिघियाना / नन्दलाल यादव 'सारस्वत'

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ठहरै वास्तेॅ की घिघियाना
लगले रहतै आना-जाना।

कोय मरै, केकरौ कुछ दुख नै
की कसाय रं लगै जमाना।

एक जरा-सा गलती लेली
सुनतेॅ रहोॅ उमिर भर ताना।

के चोराय छै निर्मोही रं
चिड़ियोॅ तक के बचलोॅ दाना।

जे गरीब छै ओकरोॅ देह के
पानी नाँखि खून-पसीना।

सारस्वतो के आगू केकरो
चलतै कब तक झूठ-बहाना।