भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ठिगनी लाशों की गिनती / राबर्ट ब्लाई

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आओ
एक बार फिर से
लाशों की गिनती करें।

यदि हम इन लाशों को छोटा कर पाते-
खोपड़ी के आकार जैसा
तो इन्हें इकट्ठा करके
श्वेत धवल
एक चिकना चबूतरा निर्मित कर लेते
चांदनी रातों में।

यदि हम इन लाशों को छोटा, और छोटा कर पाते -
तो साल भर में किए गए शिकार को
बड़ी आसानी से सजाकर रख देते
अपने सामने पड़ी छोटी-सी मेज पर।

यदि हम इन लाशों को छोटा कर पाते -
तो नग की तरह गढ़वा लेते एक अदद शिकार
यादगार के वास्ते सदा-सदा के लिए
अपनी अंगूठी में ।

अंग्रेज़ी से अनुवाद : यादवेन्द्र