भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ठुमक-ठुमक / बालस्वरूप राही

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

मैं तो बिल्कुल नहीं खेलता
नाटक मम्मी जी, इस बार,
गुड्डी को तो परी बनाया
मुझे बनाया राजकुमार!

इसके ठाट-बाट तो देखो
कैसी शान निराली है,
आँखों में काजल, गालों पर
कितनी प्यारी लाली है!

मेरे मुँह पर थोप दिया है
बस सूखा पौडर बेकार
मैं तो नहीं खेलता
नाटक मम्मी जी, इस बार!