भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ठूँठ जीवन / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

                                                                                                                                                                            196
धूप -सा रूप
चन्दन -सी ख़ुशबू
बिखेरा करें ।
197
अँधेरा जहाँ
ये चेहरा चमके
उजेरा करे।
198
राहें तुम्हारी
फूलों से भरें सब
सजदा करें ।
199
नैनों का सागर
नेह नीर भरके
बिखेरा करे।
200
लाखों दुआएँ-
सबके आँगन के
चन्दा मुस्काएँ ।
201
उड़े पखेरू
सूख गईं डालियाँ
छाया लापता।
202
सन्नाटा जागे
भाँय- भाँय आँगन
खो गए स्वर ।
203
सूना आकाश
सिर्फ बचा है पास
सो गए तारे ।
204
आँधियाँ पूछें
अब कुशल खैर
कोई न सगा।
205
साँसें लुटाईं
बदले में दे गए
सगे भी दगा ।
206
फैला हुआ
भीड़ का वन, पर
अकेलापन ।
207
ठूँठ जीवन
झर गए हैं पात
करे न बात ।
208
देते दिलासा
दूर बस्ती के दिए
तोड़ते चुप्पी ।
209
मेला उठा है
लाद चले बंजारे
सौदा -सुलफ।
210
बेचैन मन
शिला -सा भारी हुआ
अकेलापन।